दोस्त

तू आंख मूंद कर देख ले
वह दोस्त नजर तुझे आएगा,
जब तू टूट कर बिखरा होगा
वह तेरी हिम्मत बन जाएगा ।।


तू हाथ बढ़ा कर देख ले,
वह हाथ नजर तुझे आएगा,
जब कोई तेरे साथ ना होगा
वह अपनापन तुझे दिख लाएगा ।।


तू लफ्ज़ बयां कर देख ले
वह हर मुश्किल हल कर जाएगा,
जब तू  आंसू अपने बहाएगा
वह तेरा जज्बा बन तेरे साथ खड़ा हो जाएगा ।।


तू बस एक बार कह कर तो देख,
वह तेरे लिए सारे जहां से लड़ जाएगा ।।

- By Shivam Rajput

11 thoughts on “दोस्त”

Leave a Comment

Your email address will not be published.